मानचित्रण की कला एवं इसकी उपयोगिता

भौगोलिक विशेषताओं से युक्त किसी स्थान की आकारिकी, अक्षांश व देशान्तरीय विस्तार के अनुसार स्थिति, इससे सम्बद्ध भौगोलिक आकृतियों यथा – पर्वतों, नदियों आदि का मापन व निर्धारण मानचित्रण कहलाता है। वर्तमान काल में देशों-प्रदेशों तथा उनके अंदर स्थित विभिन्न भौगोलिक संरचनाओं वन प्रदेशों, तटीय भूमि, जल संसाधन क्षेत्रों, खनिज संसाधन क्षेत्रों, कृषि भूमि, जलवायु, … Continue reading मानचित्रण की कला एवं इसकी उपयोगिता