भूगोल और आप 1 |

भूगोल में अतिवाद की विचारधारा का सूत्रपात

1970 के दशक के आते-आते विश्व के न केवल विकासशील एवं अविकसित देशों में समस्यायें गंभीर हुईं अपितु कुछ समस्याओं ने विकसित देशों में तेजी धारण करना शुरू कर दिया। इन समस्याओं का प्रभाव लोगों और क्षेत्रों के बीच सामाजिक, आर्थिक स्थर व पर्यावरण आदि पर पड़ने लगा। जिसने ऐसे परिवेश को उत्पन्न किया जिसमें एक नई विचारधारा की आवश्यकता की मांग होने लगी। जो लोगों की समस्याओं के समाधान में सहायक हो। पहले की विचारधारायें जैसे स्थानीय विज्ञान, व्यवस्थित...

To purchase this article, kindly sign in

One Comment

  1. Dheeraj yadav February 25, 2018 1:38 pm Reply

    bhugol viahay

Post a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.