भूगोल और आप |

जैव विविधता ह्रास के प्राकृतिक कारण

1) जैव विविधता ह्रास के प्राकृतिक कारण: जीवाश्म प्रमाण बतलाते हैं कि पृथ्वी पर जीवन की शुरूआत के समय मौजूद मूल प्रजातियों के 99 प्रतिशत से अधिक का विलोपन हो चुका है। इनमें से अधिकांश प्रजातियां मनुष्य के आगमन से पूर्व ही समाप्त हो चुकी थीं। बदलते हुए भौतिक पर्यावरण के अनुसार जो प्रजातियां अनुकूलन कर लेती हैं वे नई प्रजातियों के रूप में विकसित हो जाती हैं। इस प्रक्रिया में जो प्रतिस्पर्धी प्रजातियां अनुकूलन नहीं कर पाती हैं वे विलुप्त...

To purchase this article, kindly sign in

Comments are closed.