भूगोल और आप |

तटवर्त्ती अंटार्कटिका में तापवृद्धि की जांच

अंटार्कटिका से प्राप्त यांत्रीय डाटा की जांच से स्पष्ट होता है कि अधिकतर भागों में वातावरण के तापमान में वृद्धि होने से हाल के दशकों में इस महादेश में महत्वपूर्ण परिवर्तन हुए हैं। विशेषकर पश्चिमी अंटार्कटिका और अंटार्कटिका प्रायद्वीप में वार्षिक तापवृद्धि के सबसे अधिक लक्षण पाए जाते हैं। इसके विपरीत पूर्वी अंटार्कटिका में बहुत कम तापवृद्धि का अनुभव किया गया है। हालांकि, हाल के अध्ययनों से यह स्पश्ट होता है कि तापवृद्धि ने तटवर्त्ती पूर्वी अंटार्कटिका के कई स्थलों को प्रभावित किया है। इसकी जटिलता महत्वपूर्ण है। स्रोत  :- नेशनल रिमोट सेंसिंग हैदराबाद , भारत राष्ट्रीय अंटार्कटिका और महासागर अनुसंधान केन्द्र, गोवा द्वारा संचालित अंटार्कटिका में वार्षिक वैज्ञानिक अनुसंधान अभियानों के अन्तर्गत वैज्ञानिक अन्वेषण के लिए बड़े प्राकृतिक प्रयोगशाला के तौर पर अंटार्कटिका के एकल पर्यावरण का उपयोग किया जाता है, जिससे वैश्विक पर्यावरणीय परिवर्तन को समझने में मदद मिलती है। भारत ने 1983 में अंटार्कटिका के दक्षिण गंगोत्री...

Post a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*