Bhugol-Aur-Aap |

लॉजिस्टिक्स में नवाचारों से सधेगा पर्यावरण संतुलन

प्रकृति में पर्यावरण संतुलन को बनाये रखने के लिए उन सभी क्षेत्रों में नवाचारों की आवश्यकता है जो देश की अर्थव्यवस्था में प्रमुख योगदानकर्ता हैं। विगत मार्च माह के अंतिम सप्ताह में कोंकण रेलवे...

Bhugol-Aur-Aap |

आईएचबीटी ने विकसित की उत्तम गुणवत्ता की हर्बल चाय

सीएसआईआर-आईएचबीटी द्वारा उत्तम स्वास्थ्य वर्द्धक पेय के तौर पर हर्बल चाय निर्माण की विधि विकसित की गई है। संस्थान द्वारा विकसित हर्बल चाय को विशेष गुणवत्ता वाले औषधीय एवं सुगंधित पौधों की पत्तियों,...

Bhugol-Aur-Aap |

ग्रीष्म ऋतु में हीट वेव लेकिन तापमान में कमी रहेगी

भारतीय मौसम विभाग द्वारा 1 अप्रैल, 2018 को जारी ‘ऋतुनिष्ठ दृष्टिकोण‘ के अनुसार अप्रैल-जून 2018 के महीनों में देश के अधिकांश हिस्सों में तापमान ‘औसत से ऊपर’ रहेगा।’ आईएमडी आलोच्य अवधि अप्रैल-जून को...

Bhugol-Aur-Aap |

गहरी खाइयों से कटा हुआ है समुद्र तल

1930 के दशक के उत्तरार्द्ध से समुद्री भूगर्भशास्त्र में नई तकनीकों का सूत्रपात हो चुका है। गुरूत्व मापन और बिंबयोजना के कारण समुद्र की सतह और तली संरचना का सही-सही मापन संभव हुआ है। समुद्र तल भारी...

Bhugol-Aur-Aap |

बांस से कोयला बनाना एक नया रोजगार

भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले अपने व्यवसाय के रूप में मूलरूप से कृषि का चयन करते हैं। उनके लिए दूसरा उत्तम रोजगार पशुपालन के रूप में दिखता है। कृषि-मौसमों रबी, खरीफ, जायद के अलावा वर्ष...

Bhugol-Aur-Aap |

हिम का ढलान की ओर तीव्र प्रवाह है हिमधाव

हिमनद क्षेत्र में बर्फ की नदियां होती हैं, जो निरंतर गतिमान रहती हैं तथा जिनका निर्माण सैकड़ों या हजारों वर्षों के दौरान हिम के संहनन और पुनः रवाकरण द्वारा होता है। प्रवाहपूर्ण संचलन चाहे वह कुछेक...

Bhugol-Aur-Aap |

फसल के लिए नाइट्रेट की आवश्यकता

पादपों की जड़ों द्वारा अवशोषित नाइट्रेट बड़े कार्बनिक अणुओं में शामिल हो जाते हैं जो कि जानवरों द्वारा खाए जाने पर उनमें अन्तरित हो जाते हैं। जिन पादपों का राइजोबियम के साथ पारस्परिक संबंध होता...

Bhugol-Aur-Aap |

कवकधारी मछली की प्राप्ति का क्षेत्र व उपयोग संभाव्यता

कवकधारी मछली अथवा प्रकाशवान मछलियां मेसोपेलॉजिक मछलियों का समूह हैं जो मध्य, पश्चिमी और उत्तरी अरब सागर में प्रचुरता से तथा भारतीय अनन्य आर्थिक क्षेत्र में मध्यम प्रचुरता में पाई जाती हैं।...

Bhugol-Aur-Aap |

ज्वालामुखी से अक्सर प्रभावित होती हैं भूकम्पीय गतिविधियां

किसी ज्वालामुखी की परिभाषा शंकुकार अथवा गुंबद आकार की संरचना के रूप में दी जा सकती है, जो एक छिद्र के माध्यम से पृथ्वी के सतह पर निकले मैग्मा के परिणामस्वरूप निर्मित होती है। ज्वालामुखी सपाट ढालाकार...

Bhugol-Aur-Aap |

वायु-दाब है मानसून की उत्पत्ति का कारण

मौसम के अनुसार क्रम परिवर्तित करने वाली पवनें मानसून कहलाती हैं। मानसून दो परस्पर मौसम वाली जलवायु है तथा पवनों का उत्क्रमण मानसूनी जलवायु का मूल सिद्धान्त है। इसे अधिक स्पष्ट करते हुए सिम्पसन...