भूगोल और आप |

प्यासे द्वीपवासियों के लिए मीठा जल की उपलब्धता

जल के अत्यधिक दोहन और जलवायु परिवर्तन के कारण जल की बढ़ती मांग और उपलब्धता के बीच असंतुलन नीति-निर्माताओं के लिए एक चिंताजनक मुद्दा है। अलवणीकरण जो विभिन्न प्रकार के भौतिक तथा रासायनिक तरीकों के माध्यम से समुद्री जल को पेयजल में बदलने की एक विधि है, भारत के सामने मौजूद जल संकट के संभावित समाधान के रूप में उभर कर सामने आया है। तथापि क्रियाविधि की लागत प्रभावोत्पादकता, अलवणीकरण के लिए प्रयुक्त ऊर्जा के प्रकार और संयंत्र की संपोशणीयता...

To purchase this article, kindly sign in

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.