biodiversity-protection

जैव विवधता का संहक्षण और उपयोग पर विचार हो

25.00

Description

जैव संस्कृतिवाद, यह स्वीकारोक्ति है कि ज्ञान, भाषाओं और व्यवहारों में जैविक विविधता का संबंध सांस्कृतिक विविधता से है और पर्यावरण व सांस्कृतिक कल्याण के लिए संपोषिता बहुत आवश्यक है- एक उभरता शब्द व संकल्पना है। यह संकल्पना उस क्रान्तिकारी कदम का सूचक है जिसमें प्रकृति के संरक्षण के लिए विभिन्न प्रकार के मूल्यों को स्पष्ट तौर पर वाद-विवाद व व्यवहार में लाया जाता है।  

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.